Saturday, November 6, 2010

न्यूज़ चैनल एवं समाचार पत्रों का ईमेल - List of email id of news channels and news papers

IF anything wrong happens in our country, raise your objection  by sending email to various news channels

नीचे  लिखे सभी ईमेल अपने Gmail में एक साथ  Import करने के लिए यहाँ से  डाउनलोड करे

 BLEditor@thehindu.co.in
MTPuneTimes@indiaTimes.com
SamayToday@gmail.com
adityarj27@gmail.com
ajay443@gmail.com
aloksanwal@jagran.com
ambika.pune@gmail.com
anilmanchanda1@gmail.com
anoop@ndtv.com
banglore@bgl.jagran.com
bhadas4media@gmail.com
contact@thepunjabkesari.com
dailyPrabhat@gmail.com
duttrajeev@gmail.com
editor@business-standard.com
editor@chauthiduniya.com
editor@eSakal.com
editor@expressindia.com
editor@ibnkhabar.com
editor@ibnlive.com
editor@tehelka.com
editor@the-week.com
editorPrabhat@gmail.com
editorsamvad@gmail.com
feedback@expressindia.com
feedback@hindustantimes.com
feedback@ndtv.com
feedback@tehelka.com
harivansh@prabhatkhabar.in
himalmag@mos.com.np
inews@zeenetwork.com
info@aajtak.com
info@tv9.net
info@zeenetwork.com
jaideep.bose@timesgroup.com
kesariVarta@yahoo.co.in
kkgoenka@prabhatkhabar.in
letters@mpchronicle.com
livemedianews@gmail.com
mail@chauthiduniya.com
mail@indiatvnews.com
mml@malayalamanorama.com
mtbedit@gmail.com
nashik.times@timesgroup.com
news@indiavisiontv.com
pudhariPune@gmail.com
ranchi@prabhatkhabar.in
reporterfaizan@gmail.com
reportersgeneral@hindustantimes.com
respons@startv.com
response@tv9.net
response@zeenetwork.com
rjbhushan@radiomirchi.com
rkdutta@prabhatkhabar.in
saamana.p@gmail.com
sabrang@bom2.vsnl.net.in
sarvesh0908@yahoo.com
shravangarg@bhaskarnet.com
sudarshannews@gmail.com
sudarshantv@yahoo.com
svani@sanjevani.com
syndications@intoday.com
toieditorial@timesgroup.com
vivekwkl@rediffmail.com
vkhatwani@nda.jagran.com
web@indiavisiontv.com
webmaster@aptimes.com
wecare@intoday.com
yadrambansal@gmail.com   

NOTE :- Kindly send me more email ids of more news channels and news papers to add in this list at   ravindersanjay@gmail.com . Also let me know if some of above email id are not working or invalid  so that i can remove them from the list.

33 comments:

  1. पूज्य संत श्री आशारामजी बापू का अन्ना हजारे को पूरा समर्थन

    http://www.youtube.com/watch?v=OyvvXXx0Re0&feature=player_embedded

    ReplyDelete
  2. Ham hai to Bharat hai harat hai to ham hai . agar apne aap ko Bhartiy kahte hai to bBHARASTCHAR ke khilaf ek sutra me bandh kar AANA HAZARE ke yatra me samil ho jay....MAHESH PD RAMGARH,JHARKHAND,829125(09472727774)

    ReplyDelete
  3. ih th@195266@2012@99 f 'kdk;r dh Fkh ftlds fujkdj.k esa Fkkuk ckcbZ ds }kjk tks tkap dh gS og lgh ugh gS vkosnd lq;Z Hkku 'kekZ ds firk Jh panz Hkku ru; Lo- Jh cYnso izlkn ds uke ij xzke & tudiqj iVokjh gYdk u-& 26 [kkrk dz- & 26 jktLo fujh{kd eaMy & xusjk rglhy & ckcbZ ftyk & gks'kaxkckn ¼e-iz-½ jktLo eSa 40 lky ls Hkh T;knk le; ls [kljk u-& 5-14-15-16-17-27-33-42-96 dqy jdck & 4-987 gSDVs;j ¼12-33 ,dM+½ ,oa xzke & [kjxkoyh iVokjh gYdk u- & 25 [kkrk dz- & 80 jktLo fujh{kd eaMy & xusjk rglhy & ckcbZ ftyk & gks’kaxkckn esa [kljk u- & 5@1 jdck 0951 gSDVs;j ¼2-35 ,dM+½ Hkwfe jktLo esa ntZ gSa A
    blds vykok esjs o esjs firk ds uke ls vHkh rd dksbZ Hkh izdj.k fopkjk/khu ugh gSa u gh izkFkhZ dks U;k;ky; ds }kjk dksbZ uksfVl ;k vkns’k fn;k x;k gSaA eq>s vkt fnukad 30@10@12 dks Fkkus }kjk ;g crk;k x;k fd gks’kaxckn ds f}rh; O;ogkj U;k;k/kh’k th ds U;k;ky; esa izdj.k fopkjk/khu gS
    ;g fd U;k;k/kh’k egksn; ds U;k;ky; ls ,slk dksbZ vkns’k ugh gSa fd esa vius firk dh Hkqfe ij [ksrh ugh dj ldrk ;k mls csp ugh ldrk gqWA
    izkFkhZ ds }kjk dksbZ Hkh vkijkf/kd d`R; ugha fd;k x;k gSa cYdh j?kqoj n;ky 'kekZ fouksn izeksn jkgqy o eqds'k ds }kjk esjs mij tku ysok geyk fd;k x;k A mDr ?kVuk dh fjiksZV izkFkhZ }kjk Fkkus es dh xbZ Fkh ysfdu iqfyl }kjk dqN ugh fd;k x;k A ih th@195266@2012 f'kdk;r esa izkFkh }kjk fy[kk Fkk fd ;s lHkh yksx feydj Qlkuk pkgrs gS ftlls ;s yksx vkil esa feydj esjh tehu ij dCtk dj ysaA lHkh pkgrs gS fd eS >xM+ d: vkSj iqfyl esjs mij izdj.k ntZ dj ys A
    ;g fd esus ,slk dkSu lk d`R; fd;k ftl dkj.k iqfyl }kjk esjs mij izfrca/kkRed dk;Zokgh dh tk jgh gSaA
    ;g fd 30lky igys ls izkFkhZ ds firk dks bUgh yksxks }kjk ijs’kku fd;k tkrk jgk gSaA bUgh yksxks ds dkj.k esjs firk dks xkao NksM+uk iM+k Fkk vkt bUgh yksxks ds }kjk esjk edku feVkdj viuk edku cuk jgs gS vkSj esjh [ksrh dh tehu ij Hkh dCtk djuk pkgrs gSaA esjs firk o esjs ikl bruk iSlk ugh gS fd esa U;k;ky; dh ’kj.k esa tk ldqA bl dkj.k ;s yksx eq>s vdsyk tku dj esjh tehu gfFk;kuk pkgrs gSaA
    ;g fd ;fn vki U;k;ksfpr vkns’k djs rks esa viuh iwjh tehu NksM+us dks rS;kj gwW
    ;g fd esus tc tuf'kdk;r fuokj.k foHkkx es f'kdk;r dh rks [kkuk iwrhZ ds uke ij nksuks i{kks ds uke ij izfrca/kkRed dk;Zokgh dj bLr0dz-&452&453@12 /kkjk & 107 116¼3½tk0QkS0 dh dk;Zokgh dj nh xbZA
    ;g fd j?kqoj n;ky o vU; fdlh dk Hkh esjs esjs firk ds uke jktLo esa ntZ Hkqfe ij dksbZ Hkh vf/kdkj ugh curk gS
    ;g fd iqfyl Hkh esjs izfr lg;ksx ugh djrh gSa esa viuh Hkwfe ij [ksrh ugh dj ik jgk gwa u gh ;s yksx xkao esa jgus nsrs gSa esa vdsyk vlgk; brus yksxksa ls dSls yM+ ldrk gwa A
    ;g fd vknj.kh; ls fuosnu gS fd mPpvf/kdkjh ls U;k;ksfpr fu"i{k tkp djk;h tk,A ,oa vjksfi;ksa ds f[kykQ n.MkRed dk;Zokgh dh tk,A vkSj izkFkhZ dks U;k;k fnyk;k tk,A
    izkFkhZ
    lw;Z Hkku 'kekZ
    xzk-& tudiqj rglhy&ckcbZ
    ftyk&gks'kaxkckn
    eks-u-& 9424760241


    ReplyDelete
  4. Hey hi,
    It's a Brilliant idea thanks,

    But following id's are not working;
    editor@hinduvoice.in, mail@sudarshantv.com, thehindu@indiaserver.com, epwl@shakti.ncst.ernet.in, pioneer.edit@thepioneer.sprintrpg.ems.vsnl.net.in,sonusahara.reporter@ymail.com, sarvesh0908@yahoo.com, anthony@bom2.vsnl.net.in, decnet@blr.vsnl.net.in, observer@bom3.vsnl.net.in, navhind@bom2.vsnl.net.in, htedo@giasdl01.vsnl.net.in, mid-day@giasbm01.vsnl.net.in, nid@giaspn01.vsnl.net.in, hppltd@bom2.vsnl.net.in, oibs@bom2.vsnl.net.in, gomantak@bom2.vsnl.net.in, asian@bom2.vsnl.net.in, herald@giaspn01.vsnl.net.in, nvirai@giasbg01.vsnl.net.in, just_kumar@rediffmail.com, iaindia@del2.vsnl.net.in, admin@ecologist.ilbom.ernet.in, mdaaa40@giasmd01.vsnl.net.in, admin@epw.ilbom.ernet.in, editor@amarujala.com, rajnishnair@mbi.jagran.com, the_telegraph_india@newscom.com, express@giasmd01.vsnl.net.in, observer@del2.vsnl.net.in, medasia@giasdl01.vsnl.net.in, cee@ad1.vsnl.net.in, ipsindia@del2.vsnl.net.in, times@giasdl01.vsnl.net.in, sabrang@vsnl.com, mailjaya@indiatimes.com, rjbhushan@radiomirchi.com, info@zeenetwork.com, info@himalmedia.com, shravangarg@bhaskarnet.com, nbtbindaasbol@indiatimes.com, respons@startv.com

    ReplyDelete
  5. हमारे देश में असंख्य छात्र/ युवा/महिला /सांस्कृतिक/ सामाजिक संगठन है, राजनीतिक दल है, एन.जी.ओ. है, नेता है, समाज सेवक है जो देशवासियों और देश के हित में कार्यरत है।तो क्या वजह हैं?
    देश उत्थान के बजाय पतन की ओर क्यों जा रहा है?
    जातिवाद, साम्प्रदायिकता, आतंकवाद, सामाजिक असमानता, महंगाई, भ्रष्टाचार, हिंसा का ग्राफ क्यों बढ़ता जा रहा है? युवाओं के सामने रोजगार का संकट क्यों है? महिलाओं के शोषण की घटनाएं क्यों बढ़ रही है? स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार जैसी बुनियादी जरूरतों से आमजन क्यों वंचित है?आज भी देश के लगभग 70 फसदी लोगों को 20 से 40 रू. की दिहाड़ी पर गुजारा करना पड़ रहा है।जब देशवासियों का वर्तमान और भविष्य ही उज्जवल नहीं तो देश कैसे उन्नति कर सकता है और जो भी उन्नति हुई भी है वह एक विशेष वर्ग तक ही सीमित रह गई हैं।
    आज देश में अमीर और अमीर, गरीब और गरीब होता जा रहा है।आजादी के इन 65 सालों के बाद भी हर पेट को रोटी और हर हाथ को काम, सबको शिक्षा अच्छा स्वास्थ्य से हम अब भी कोसो दूर है ,जिनके पास पैसा है या पैसे पर नियंत्रण है आज वह इस व्यवस्था में सब प्राप्त कर सकते हैं।

    देश में कानून और न्याय की मौजूदा स्थितियां बेहद चिंताजनक है। आम जन को कितनी सुगमता से न्याय मिलता है ये किसी से छुपा नहीं है ।


    खेलने और पढ़ने के उम्र में जिन्दगी का बोझ ढो रहे है , देश के कल कारखाने बंद हो रहे है, लघु उद्योग कुटीर उद्योग अपना अस्तित्व खोते चुके हैं।



    विदेशी कर्ज के बावजूद देश को उन्नति की ओर बताया जा रहा है।



    हम कैसा देश देना चाहते हैं,अपनी भावी पीढ़ी को ?
    जहाँ हर तरफ भ्रष्टाचार का बोलबाला हो ?
    जहाँ मजहब इंसान को सुधरने के बजाय मरने मारने के काम आये ?
    जहाँ इंसान का इंसानियत से कोई मतलब न हो ?
    जहाँ हिंसा स्वार्थपरता अवसरवादिता को बोल बाला ?
    जहाँ नारी का माता/पिता व बड़ों एवं गुरूजनों का अपमान हो ?
    जहाँ स्नेह, त्याग, बलिदान, समर्पण, सहयोग, सहानुभूति सेवाभाव, कर्तव्यपरायणता, भरोसा जैसे शब्द बेमानी हो ?
    हम कौन सी संस्कृति, संस्कार और विरासत देने चाहते हैं अपनी भावी पीढ़ी को ?
    ऐसा बिल्कुल नहीं कि मैंने अब तक जो भी बाते लिखी हैं इससे आप अंजान है।क्योंकि इसलिए अखबार, पत्रिकाएं, रेडियों, न्यूज चैनल पर्याप्त है।

    हम और आप सब जानते है, लेकिन कुछ इसलिए नहीं करते हैं क्यूंकि

    हमें क्या फायदा? हम क्यों करें?
    जैसे सवाल में हम उलझे रहते है ।
    समस्याएं कम होने की बढ़ती गई। ऐसा नई है कि राजनीतिक दल आपके लिए संघर्ष नहीं करते है,
    लेकिन उनका संघर्ष और आन्दोलन तो केवल जनसमर्थन बचाये रखने के लिए होता है
    हमारे सामने चुनौती है कि हम अपने भविष्य के साथ हो रही सौदेबाजी के खिलाफ संघर्ष खड़ा करे एक ऐसा समाज का निर्माण करना है जिसमें नागरिक अपने देश के प्रति संवेदनशील और जिम्मेदार हो ।
    हम यह भी सोचते हैं कि देश की समस्याओं और हमारी समस्याओं के निदान के लिए देश के नेता तो हैं। वह हमारी समस्याओं से निजात दिलायेंगे। इसलिए आजादी से अब तक हम तमाम चुनावों में अनेको प्रयोग कर चुके हैं और हर दल की सरकार बनवा कर देख चुके हैं।


    ReplyDelete
  6. हमारे देश में असंख्य छात्र/ युवा/महिला /सांस्कृतिक/ सामाजिक संगठन है, राजनीतिक दल है, एन.जी.ओ. है, नेता है, समाज सेवक है जो देशवासियों और देश के हित में कार्यरत है।तो क्या वजह हैं?
    देश उत्थान के बजाय पतन की ओर क्यों जा रहा है?
    जातिवाद, साम्प्रदायिकता, आतंकवाद, सामाजिक असमानता, महंगाई, भ्रष्टाचार, हिंसा का ग्राफ क्यों बढ़ता जा रहा है? युवाओं के सामने रोजगार का संकट क्यों है? महिलाओं के शोषण की घटनाएं क्यों बढ़ रही है? स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार जैसी बुनियादी जरूरतों से आमजन क्यों वंचित है?आज भी देश के लगभग 70 फसदी लोगों को 20 से 40 रू. की दिहाड़ी पर गुजारा करना पड़ रहा है।जब देशवासियों का वर्तमान और भविष्य ही उज्जवल नहीं तो देश कैसे उन्नति कर सकता है और जो भी उन्नति हुई भी है वह एक विशेष वर्ग तक ही सीमित रह गई हैं।
    आज देश में अमीर और अमीर, गरीब और गरीब होता जा रहा है।आजादी के इन 65 सालों के बाद भी हर पेट को रोटी और हर हाथ को काम, सबको शिक्षा अच्छा स्वास्थ्य से हम अब भी कोसो दूर है ,जिनके पास पैसा है या पैसे पर नियंत्रण है आज वह इस व्यवस्था में सब प्राप्त कर सकते हैं।

    देश में कानून और न्याय की मौजूदा स्थितियां बेहद चिंताजनक है। आम जन को कितनी सुगमता से न्याय मिलता है ये किसी से छुपा नहीं है ।


    खेलने और पढ़ने के उम्र में जिन्दगी का बोझ ढो रहे है , देश के कल कारखाने बंद हो रहे है, लघु उद्योग कुटीर उद्योग अपना अस्तित्व खोते चुके हैं।



    विदेशी कर्ज के बावजूद देश को उन्नति की ओर बताया जा रहा है।



    हम कैसा देश देना चाहते हैं,अपनी भावी पीढ़ी को ?
    जहाँ हर तरफ भ्रष्टाचार का बोलबाला हो ?
    जहाँ मजहब इंसान को सुधरने के बजाय मरने मारने के काम आये ?
    जहाँ इंसान का इंसानियत से कोई मतलब न हो ?
    जहाँ हिंसा स्वार्थपरता अवसरवादिता को बोल बाला ?
    जहाँ नारी का माता/पिता व बड़ों एवं गुरूजनों का अपमान हो ?
    जहाँ स्नेह, त्याग, बलिदान, समर्पण, सहयोग, सहानुभूति सेवाभाव, कर्तव्यपरायणता, भरोसा जैसे शब्द बेमानी हो ?
    हम कौन सी संस्कृति, संस्कार और विरासत देने चाहते हैं अपनी भावी पीढ़ी को ?
    ऐसा बिल्कुल नहीं कि मैंने अब तक जो भी बाते लिखी हैं इससे आप अंजान है।क्योंकि इसलिए अखबार, पत्रिकाएं, रेडियों, न्यूज चैनल पर्याप्त है।

    हम और आप सब जानते है, लेकिन कुछ इसलिए नहीं करते हैं क्यूंकि

    हमें क्या फायदा? हम क्यों करें?
    जैसे सवाल में हम उलझे रहते है ।
    समस्याएं कम होने की बढ़ती गई। ऐसा नई है कि राजनीतिक दल आपके लिए संघर्ष नहीं करते है,
    लेकिन उनका संघर्ष और आन्दोलन तो केवल जनसमर्थन बचाये रखने के लिए होता है
    हमारे सामने चुनौती है कि हम अपने भविष्य के साथ हो रही सौदेबाजी के खिलाफ संघर्ष खड़ा करे एक ऐसा समाज का निर्माण करना है जिसमें नागरिक अपने देश के प्रति संवेदनशील और जिम्मेदार हो ।
    हम यह भी सोचते हैं कि देश की समस्याओं और हमारी समस्याओं के निदान के लिए देश के नेता तो हैं। वह हमारी समस्याओं से निजात दिलायेंगे। इसलिए आजादी से अब तक हम तमाम चुनावों में अनेको प्रयोग कर चुके हैं और हर दल की सरकार बनवा कर देख चुके हैं।


    ReplyDelete
  7. This is a fantastic job and I would like someone to add central ministers email IDs as well, I am trying my best, if I could then I will certainly post here.

    Thanking you in participation

    Cheers

    ReplyDelete
  8. Thanking you to tell so many important things.

    ReplyDelete
  9. Great...site..Lets all work together and make the country - A best place to live

    ReplyDelete
  10. Greetings from Ohio! I'm bored to tears at work so I decided to browse your site on my iphone during lunch break. I really like the knowledge you provide here and can't
    wait to take a look when I get home. I'm amazed at how fast your blog loaded on my cell phone .. I'm not even using WIFI, just 3G .
    . Anyways, very good site!

    My blog post pirater un compte facebook

    ReplyDelete
  11. “Ek Swal”
    Main Hun Beti,
    Ma Bap Ki Pyari, Ladli Beti
    Muje Janm Dene Ka Sahs
    Tha Mere Mata-Pita Me
    Pr Kya Main Wo Sahs Juta Paungi
    Bigde Es Halat Me?
    Spna Tha Bachpan Ka Mere
    Mata-Pita Ka Garv Na Main
    Tutne Dungi Kisi Bhi Bat Me
    Na Shiksha Me, Na Sanskar Me
    Pr Aaj Fans Chuki Hun Main
    Ak Anjane Bhavanr Ke Jal Me
    Jis Mata-Pita Ne Muje Pdaya, Sanskari Banaya
    Nahi Ban Pa Rhi Hun Aaj Unka Shara
    Bavjud Koshisho Tmam Ke
    Itne Salon Gujar Gye
    Pr Aaj Bhi Nirbhar Hun Un Par
    Jinka Tha Chahiye Muje Banna Shara
    Tute Khwab Liye, Sir Jukaye,
    Prast-Si Khadi Hun Unke Samne
    Nahi Dund Payi Ak Naukri
    Pakr Digriyan Bade Shan Se
    Aaj Unki Tadap Mere Liye
    Ki Kya Main Phunch Paungi
    Jindgi Me Kisi Mukam Pe
    Liye Ja Rahi Hai Unhe
    Dukho Ke Shmshan Me
    Meri Siskiya, Meri Bebsi, Meri Nakami
    Bn Gayi Unke Jivan Ki Sabse Badi Khami
    Kya Mujme Hoga Itna Honsla
    Unki Trah Duniya Se Lad Kar
    Apni Beti Ko Tmam Dikkton Ke Sath
    Achhi Shiksha, Achhi Parvrish Dene Ka
    Itna Sab Kar Ke Bhi Use Pal-Pal
    Jindagi Ko Kchotte Dekhne Ka
    Shayad Han, Shayad Nahi
    Pr Meri Na Bhi, Smaj Ko, Sarkar Ko
    Manjur Nahi Hogi
    Wo Kahte Hain, Tuje To Bas Janm Dena Hai
    Chahe Wo Beti Hi Kyun Na Hogi
    Pr Kya Smaj, Kya Sarkar Bchaegi
    Muj Jaisi Betiyon Ko Pal Pal Marne Se
    Smaj Aur Sarkar Ke Pas Agr Waqt Itna Hota
    To Betiyon Ka Bhavishya Is Tarh Se Pst Nahi Hota
    Mera Mn To Bas Puchta Hai
    Sabse Ek Swal
    Jatke Ki Mout Achhi Hai
    Ya Phir Krna Hlal?
    Ya Phir Karna Hlal?

    ReplyDelete
  12. I loved as much as you'll receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored subject matter stylish. nonetheless, you command get got an impatience over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come more formerly again since exactly the same nearly very often inside case you shield this hike.

    My website - Psn Code Generator

    ReplyDelete
  13. This post is invaluable. When can I find out more?


    Also visit my homepage: Generateur De Code Psn

    ReplyDelete
  14. I do not know if it's just me or if perhaps everyone else experiencing issues with your blog. It appears as though some of the written text within your content are running off the screen. Can somebody else please comment and let me know if this is happening to them as well? This might be a issue with my web browser because I've had
    this happen before. Many thanks

    Feel free to visit my page ... Your Anchor Text

    ReplyDelete
  15. Aw, this was a very good post. Taking a few minutes
    and actual effort to create a superb article… but what can I say… I procrastinate a whole lot and never seem to get
    nearly anything done.

    Feel free to surf to my web blog - Psn Code Generator

    ReplyDelete
  16. It can be since had not been spot for their install it and
    i have not ever seen a battery ran toaster to suit usage outdoors.
    You might have maybe happened to be proceeding this important utterance as being the finally rate and just in case it
    is advisable to do a favourable impact on our environment, it really about time you commence putting it on.
    Toaster oven stoves have been in existence for a few years,
    but it can be primarily just a few weels ago
    they've already became rather popular. A project made it through everything when considering Jon Bohmer any solar-powered tandoor.

    Also visit my homepage: convection oven recipes beef

    ReplyDelete
  17. Prеtty componеnt of cοntent. I juѕt stumbleԁ
    upon your blog anԁ in acсesѕion capital to saу that Ι get actually loved aсcount youг blog posts.
    Anуwаy I will be subscribing fоr your
    feeԁs or еven I succesѕ you get admiѕsion to сonstantly raрidly.


    Мy ωeb blog - MіntedPoκer Promοtions ()

    ReplyDelete
  18. PTFE is best referred to Teflon and simply PFOA serves as a
    by-product out of Teflon treatments. It is actually smaller compared to folders, suitable extra snugly in every kitchen drawer, and they will just
    embrace a new icebox caused by some built-in magnets.
    Viewers using Secura turbo range can sometimes admit so it is still considerably
    detected to secura's France arcola's panes tempered apartments.
    Consider for just a moment that you are both at home and are attempting to slave in the kitchen a specific program.
    You'll also find answers to your great advantage distinguish the right toaster oven, desire already one too usable worktop plumbing appliances.

    Review my website which toasters are the fastest []

    ReplyDelete
  19. Why is our media silent on what is happening with Muslims in Burma? Why doesn't Media ever dare publish any news in which Muslims are persecuted? ---Mohammad Afroz Athar

    ReplyDelete
  20. Howdy, і read youг blog ocсasionally and i oωn a
    sіmilar οne and і was just curiοus if yοu get
    а lot of ѕpаm гemaгks? If sο hοw do уou proteсt
    agаіnst it, аnу plugin or anything you cаn adviѕe?
    I gеt so much lately it's driving me mad so any help is very much appreciated.

    Here is my homepage; Americas Cardroom Poker Bonus

    ReplyDelete
  21. medya thano se rupya lena band karde phir sac samne aana suro ho jaiga

    ReplyDelete
    Replies
    1. media thano se rupiya leti nahi ushke mulazim kambakhat jo paidaies hote hain be bakhat unhe kon rokega? wo to aak aur hum me se hi gai.

      Delete
  22. Ritu very good thot,s & i fheel beti hona same to you

    ReplyDelete
  23. Ritu ka like this
    “Ek Swal”
    Main Hun Beti,
    Ma Bap Ki Pyari, Ladli Beti
    Muje Janm Dene Ka Sahs
    Tha Mere Mata-Pita Me
    Pr Kya Main Wo Sahs Juta Paungi
    Bigde Es Halat Me?
    vaakai ek sawal aaj k haalaat ka sacha aaina hai.
    vakt badal gaya hai aur ye aub ka maina hai,
    maano ya na maano beti jishki kalege ka tukda hai.
    ye darad hai ushi ka aur to sab bakvash dhikhava hai.
    beti ki chinta main ma-baap ki need haraam hoti hai,
    nahi bhaati unhen roti suvaad besak tamaam hoti hai..
    jab tak na ho mushkaan beti k chehre pe aankhon pe aanshu tamaam moti hai.

    ReplyDelete
  24. hai kambakhaton ka zamana a beti tu phir na aana.
    aana bhee to kamsekam beti tu ish desh me na aana..
    kahe kar beti-beti,rishta tamaam taar-taar kar dete hai.
    do pairon ke janver,haiwaan insaniyat sharamshaar karte hai.
    VIMAL MOHAN AZAD
    8930964040.
    kaash ! ishwer agle janam duracharion ko ladki kijo.
    ladki ko phir aur ladki hi dijo.
    ehsaash ho jaye ushko bhee aisha lakin ushko mahol dijo.
    phir na beti ko koi sata sake,attyachaari khud beti bachaon kahe saken, aisha he parmaatma tu kijo..

    ReplyDelete
  25. vimalmohanazad@gmail.com
    8930964040.
    VIMAL MOHAN AZAD

    ReplyDelete
  26. पंजाब के फरीदकोट स्थित आदेश इंस्टीच्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी कालेज में पढ़ने वाले बिहार और झारखंड के छात्रों पर आफत आ गई है। कान्हा के जन्मोत्सव पर मटका फोड़ना रास न आने पर कालेज के पंजाबी छात्रों का उन पर कहर टूट पड़ा। बेल्ट व डंडों से पिटाई शुरू कर दी गई। दो दिनों से कालेज परिसर में कैद रहने वाले लगभग 350 छात्र अब जान बचाने की गुहार लगा रहे हैं। छात्रों ने दैनिक जागरण को फोन पर बताया कि बिहारी कह कर मारपीट की जा रही है और वापस लौटने की धमकी दी जा रही है। मुख्य द्वार से निकलते ही बेल्ट से पिटाई की जा रही है। कालेज प्रशासन मौन है। पुलिस भी मदद नहीं कर रही है। बिहार के सीएम आवास और गृह मंत्री के यहां फोन से जान बचाने की गुहार लगाई है। किसी तरह उन लोगों को यहां से सुरक्षित निकलवाने की व्यवस्था की जाए।

    पूर्वी चंपारण के रक्सौल निवासी द्वितीय वर्ष के छात्र प्रवीण रंजन ने गुरुवार को बताया कि कालेज में बिहार के 250 और झारखंड के सौ छात्र हैं। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर उन लोगों ने मकटा फोड़ने का कार्यक्रम रखा था। कालेज में ही पढ़ने वाले पंजाबी छात्रों ने यह कहकर विरोध किया कि शोर बहुत हो रहा है। जब वे लोग नहीं माने तो पंजाबी छात्र देर शाम शराब के नशे में पहुंचे और उन लोगों को तलाश कर पीटने लगे। हमलावरों के साथ स्थानीय लोग भी जुड़ गए हैं। कालेज के मुख्य द्वार पर रात से ही जमे हैं। जो भी बाहर निकलने की कोशिश करता है, उसकी बुरी तरह पिटाई की जा रही है। कालेज छोड़कर जाने की धमकी दे रहे हैं। ऐसा न करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी से वे लोग सहमे हुए हैं।

    ReplyDelete